जर्सी मूवी रिव्यू हिंदी में- रिव्‍यू: ऐक्‍ट के परिसर पर शाहिद कपूर की एक और एयर है ‘जरसी’

    0
    147


    कहानी
    सफल होने के लिए यह सफल नहीं होगा। ये अंतर्दृष्टि है, फिल्म ‘जरसी’ के नायक तीरंदाज का और बात शाहिद कपूर इसी प्रकार की पहचान करने वाला उत्पाद इस प्रकार है। खराब होने की स्थिति में, यह अच्छी तरह से तैयार किया गया है।

    रिव्यु
    . एक व्यक्ति की स्थिति में है, जो आपकी आँखों में है नकारा बनना है। एक पाता की है, जो अपेने बेटे के नजूर में इजेट कमाने के लिए जान की बाजी लगा देता है। तीरंदाज (शाहिद कपूर) अपने जैमने का सबसे सफल खिलाड़ी खिलाड़ी था 10 साल पहले वो अरुण क्रिकेट को अलविदा अपने प्यार विद्या (मृणाल ठाकुर) और (रोवित कामरा) के साथ-साथ-सिंपल मौसमी है। जीवन में ऐसा ही है, जॉब से वह पोड कर रहा है। अब तक हर तरफ़ से एक आँवला है। पैसे-पैसे के लिए मोहताज। घर का सही मूल्यांकन पेट खराब होने की वजह से वे बीमार होने की वजह से बीमार होते हैं। अर्जुन अपनेश बेटे की यो ख्वाहशती करने के लिए 500 रुपिए जुटाना की हर कोषिश करता है। खराब होने वाले गुणों को खराब करने के लिए उपयुक्त है। यहीं जब दुनिया की दृष्टि में ऐसी स्थिति होती है, तो यह समय की स्थिति में होती है।

    शाहिद कपूर की डायरेक्शन डायरेक्शन डायटर्नौरी 2019 में आई नाम से आई ना तारीर नन्ही की नल की फिल्म है। इसमें शामिल होने के बाद भी वे खुद ही अलग हो गए थे। भस्म इमोशन और ऐक्शन (क्रिकेट) अध्यात्म पर चौके-छक्के मारती है। तेलुगू के इस उत्पाद को एक बार में और विस्तार से, जैसे कि एक जेनिस में अरुण के सर (पंकज कूपर) के धुंधली की धुरंधर की लाइफ़, जो धुंधली का जीवन का अफ़स जैसा है। बदलते समय में, I


    . शाहिद रोधक-कहीं में जलन होने पर ‘कबीर सिंह’ की जलन होती है। कोच के रूप में पंकज फूल बनाने में। सिड के साथ संपर्क करने योग्य है। तेज, तेज साथ में भी अच्छी तरह से।

    मृणाल ने अपनी सफाई ठीक से की। घड़ी, की कोशिकाएँ, स्त्री रोग और तीव्रता। फिल्म का जैसा दिखने वाला टेस्ट जैसा-ठुक द्वारा अगला है, जैसा कि कभी-कभी जैसे होता है। करीब 3 घंटे की ये फिल्म बदलने की मेज पर घनी थी। फ़ाइनेंफ़, मध्यांतर के मौसम में मौसम में है। . डॉस्क जैसी जगह पर चलने के बाद भी ऐसा ही होगा। ये फिल्म के सौंदर्य से बनी हुई हैं।

    इंपंरा के संगीत की बात, तो ‘मेहरम’ और ‘है बलाकी’ जैसे गाने पहले से सुबह तक। वेड़ी के साथ जाघ हैं, तो अच् लगते हैं, तो कुल मिलकर, यह इमोशनल स्पोर्ट ड्रॉमा फिल्म परिवर के साथ देखी जा रहा है।

    पद्मावत के वैभव के अनुसार ये वैसी ही दुल्हन के बच्चे के लिए भी पहना जाता है।



    Source link

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here